भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जेकरोॅ साथ खेवैया छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जेकरोॅ साथ खेवैया छै
ऊ आगू चलवैया छै।

जेकरा दू नम्बर के पैसा
ओकरोॅ ता-ता, थैया छै।

जहाँ दूध या दही जमैलोॅ
बैठली वहीं बिलैया छै।

जेकरा मोह नै माया कुछुवो
सचमुच में ऊ दैया छै।

आग बुझावै वाला कोय नै
आग केॅ सौ लगवैया छै।