भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे दुर्योधन अनरीत करी भारत में / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे दुर्योधन अनरीत करी भारत में,
धर्म कौं बिसार बनौ भारी स्वयं स्वार्थी।
पाक चीन, भीष्म द्रोण, कर्ण बनो चाऊ नाऊ,
साम्यवाद धृतराष्ट्र, लंका शल्य सारथी॥
धर्म अमरीका, ब्रिटेन भीम रूप धार,
फ्रांस सहदेब,, रूस नकुल, सैंन भारती।
प्यारे युवक वीरो उठो युद्ध की तैयारी करौ,
पारथ जवाहर ताकौ मोहन भयौ सारथी॥