भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोहे जाहि चाँदनी की लागति भली न छवि / दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोहे जाहि चाँदनी की लागति भली न छवि ,
चँपक गुलाब सोन जुही जोति वारी है ।
जामते रसाल लाल करना कदम्बते वै ,
बढ़ी है नवेली सुनु केतकी सुधारी है ।
कहै दास देखौ यह तपनि विषादित्त की ,
कैसी बिधि जाति दोपहरिया नेवारी है ।
प्रफुलित कीजिये बरसि घनस्याम प्यारे ,
जाति कुम्हिलानि वृषभानुजू की बारी है ।


दास का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।