भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झाँझरियाँ झनकैगीँ खरी खनकैगीँ चुरी तन को तन तोरे / दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झाँझरियाँ झनकैगीँ खरी खनकैगीँ चुरी तन को तन तोरे ।
दासजू जागती पास अली परिहास करैँगी सबै उठि भोरे ।
सौँह तिहारी हौँ भाजि न जाऊँगी आई हौँ लाल तिहारे ही घोरे ।
केलि की रैन परी है घरीक गई करि जाहु दई के निहोरे ।


दास का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।