भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूट टूटकर तरासा हुआ पत्थर बन रहा हूँ / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूट टूटकर तरासा हुआ पत्थर बन रहा हूँ।
बिखर बिखर मैं बद से बदतर बन रहा हूँ।
 
ज़र्ब पर ज़र्ब मरहम का अता-पता नहीं है,
अपने ज़ख़्म-सी कर चारागर बन रहा हूँ।
 
मेरे ज़ख़्मों को तो मरहम नसीब न हुआ,
औरों के ज़र्ब के लिये कारगर बन रहा हूँ।
 
क्या कहूँ किससे कहूँ कैसे कहूँ राज़े-दिल,
सीने में छिपा दर्दो-ग़म समंदर बन रहा हूँ।
 
जल रहा जुर्आ-जुर्आ आबे-तल्ख़ पी पी,
जू-ए-आतिश मैंअंदर ही अंदर बन रहा हूँ।
 
सीने में दबा रखा है दर्दो-ग़म की आँधियाँ,
ख़ुद में ही कोई तूफान बवंडर बन रहा हूँ।
 
तू भी ज़ख़्मे-दिल की दवा ले-ले 'कबीर' ,
चारागरी कर करके मैं कलंदर बन रहा हूँ।