भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तअल्लुक़ की नई इक रस्म अब ईजाद करना है / हुमेरा 'राहत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तअल्लुक़ की नई इक रस्म अब ईजाद करना है
न उस को भूलना है और न उस को याद करना है

ज़बानें कट गईं तो क्या सलामत उँगलियाँ तो हैं
दर ओ दीवार पे लिख दो तुम्हें फरियाद करना है

सितारा ख़ुश-गुमानी का सजाया है हथेली पर
किसी सूरत हमें तो अपने दिल को शाद करना है

बना कर एक घर दिल की ज़मीं पर उस की यादों का
कभी आबाद करना है कभी बर्बाद करना है

तक़ाज़ा वक़्त का ये है न पीछे मुड़ के देखें हम
सो हम को वक़्त के इस फै़सले पर साद करना है