भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिनका / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तिनका उड़ा था
धूल से ऊपर
तो पीछा किया था धूल ने
कुछ ऊँचाई तक
तब
धूल को वापस जाते देख
इतराया था तिनका
हवा में इठलाते
पर हवा के थमते ही
सब कुछ थम गया
मानो सब कुछ बदल गया
उसे अब भार का एहसास हुआ था
वह बेबस होकर
धूल की ओर मुड़ा था
उसे अब मालूम हुआ
जिस गति का अहंकार था उसे
वह उसका अपना नहीं था
हवा से जुड़ा था
काश ऊपर उड़ते-उड़ते
वह अपने को पहचाना होता
तो उसमें और
धूल के कणों में
इतनी दूरी न होती
उसके साथ आज
मज़बूरी न होती