भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिमीलाई देख्दा / भीमदर्शन रोका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सधैँ तिम्रै गीत गाउँछु
म सधैँ तिम्रै समीप आउँछु
तिमी टाढाबाट आइरहेकी अकेली
छेउमा पुगेपछि
मलाई चिनिसकेपछि
लहर बनछ्यौ
रुप–रङ्ग लिनछ्यौ
अनि समीपबाट तेजीले बगी जान्छ्यौ
तर केही टाढा पुगेपछि
किन दगुरी आएँ भनी
बिस्मातमा परेझैँ
पछिल्तिर फर्कने बहाना
खाजिरहेझैँ
तिमीलाई देख्दा लाग्दछ
जीवनभर तिम्रै किनार किनार
दगुरिरहुँ ।