भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू आलीशान ऐवा मैं टूटा मकाँ ठहरा / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू आलीशान ऐवान है मैं टूटा मकाँ ठहरा।
तू सरनाम जमाने में मैं बेनामो-निशाँ ठहरा।

तू चाँद-सी ख़ूबसूरत किसी गुल-सी हसीं है,
तू हूर-ए-ज़न्नत मैं नादाँ बेख़बर इंसाँ ठहरा।

तू सबा-ए-सुबहे-गुल तू कोई नूरे-सहर-सी है,
तू इक फ़स्ले-बहार-सी मैं बर्ग़े-ख़िजाँ ठहरा।

तू इक्तिजा-ओ-ख़्वाहिशो-अरमाँ किसी की,
तू मुकम्मल ख़्वाब मैं ख़्वाबे-परीशाँ ठहरा।

तू मूरत-सी है जिसके लाखों का़यल दीवाने,
मैं ख़नाबदोश कभी यहाँ कभी वहाँ ठहरा।

मेरा उफ़्ताद तो देखो मैं मेरे इबादतगाह में,
मैं मेरे कू-ए-यार में बस ज़ुमाँ-ज़ुमाँ ठहरा।

तू इब्तिशामे-हयात तू तबस्सुम-ए-शायर है,
 'कबीर' कोई बिखरा ग़मगीं उनवाँ ठहरा।