भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू जो साथ नहीं मेरे तो जहाँ छोड़ जायेंगे / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू जो साथ नहीं मेरे तो जहाँ छोड़ जायेंगे।
छत ही नहीं है अगर तो मकाँ छोड़ जायेंगे।
 
होशे-अनादिल हूँ हँसी-ए-बर्गे-नबात खातिर,
सोजे-पिनहाँ लेकर आशियाँ छोड़ जायेंगे।
 
ग़िला शिकवा शिकायत इश्क में ममनूअ है,
चश्मे-पुरआब ले इश्क बेजुबाँ छोड़ जायेंगे।
 
अब्सारे-निगार में दिखेगी हमेशा शरहे-इश्क,
रुख़्सारे-यार पर तबस्सुमे-पिनहाँ छोड़ जायेंगे।
 
रह लेंगे हम दर-ब-दर हू-ब-हू खानाबदोश,
तेरे हक में जमीं-ओ-आशमाँ छोड़ जायेंगे।
 
ये सुराब ये इशवागारे ये लौउ-ओ-ख़फ़गी,
तेरी सरमस्तियों का हन जिन्दाँ छोड़ जायेंगे।
 
दराज़ ख़ाकदाँ से शब-ए-अलम में हम तन्हा,
जाने-इज्तेराब लेकर दिलो-जाँ छोड़ जायेंगे।