भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दरियाँ और चूल्हे की गर्मी / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूँ तो अब दरियों पर बैठना कम हो गया है
बैठा नहीं जाता पैर मोड़कर
दरियों पर

जब भी बैठें दरियों पर
जान लें कि बुनने वालों के परिवार इससे पलते हैं
इनके चूल्हे की गर्मी इन दरियों से आती है

जाइए और कहिए अपने चिकित्सक से
घुटना मोड़कर बैठना उतना ही ज़रूरी है
जितना खाना खाने के पहले
डायबिटिस की गोली खाना

जाइए जल्दी करिए
यह डायबिटीस की गोली भी कमबख़्त
असर छोड़ देती है कभी भी ।