भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन अधमरा देखने / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

     दिन अधमरा देखने
      कितनी भीड़ उतर आई
      मुश्किल से साँवली सड़क की
      देह नज़र आई ।

कल पर काम धकेल आज की
चिन्ता मुक्त हुई
खुली हवाओं ने सँवार दी
तबियत छुइ-मुई

      दिन की बुझी शिराओं में
      एक और उमर आई ।

फूट पड़े कहकहे,
चुटकुले बिखरे घुँघराले
पाँव, पंख हो गए
थकन की ज़ंजीरों वाले

      गंध पसीने की पथ भर
      बतियाती घर आई