भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

द्वादश इमामों की स्तुति / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदि दै अली पुनि हसन कों जस सुनि,
जाहिर हुसैन गुनि जाने खासो आम के।
पुन जैन आबदीन बाकर महाप्रबीन,
जाफर से हैं अमीन काजिम कलाम के।
अली रजा के समान तकी अली नकी जान,
अकसरी तें बखान मेंहदी तमाम के।
दूर कै सकल काम ध्यान धरि आठो जाम,
जपत हौं सदा नाम द्वादस इमाम के॥11॥