भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धन्य वीर चर्चिल चलाकी की कीनी हद्द / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धन्य वीर चर्चिल चलाकी की कीनी हद्द।
धन्य रूजवेल्ट कीर्ति अमर जग छाई है॥
धन्य स्टालिन जिन हारत ते जीते नाजी।
साम्यवाद कल्प-वृक्ष दीनों लगाई है॥
धन्य चांगकाई निज देश कौं बचाय लीनौं।
क्रूर जापानिन कों दीनों हराई है॥
हठकर हिटलर हठीलौ हाय हार गयौं।
मित्रननें विजय पताका फहराई है॥