भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नज़रों ने जितने दिखलाए सारे मंज़र रख आया हूँ / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नज़रों ने जितने दिखलाए सारे मंज़र रख आया हूँ ।
मैं उसके दरवाज़े पर इक मिट्टी का घर रख आया हूँ ।

इक ख़ामोश झील की चुप्पी नहीं तोड़ पाया हूँ लेकिन,
मैं उसके तट पर यादों के नन्हे कंकर रख आया हूँ ।

सिर्फ़ यही एहसास मुझे क्यों हर पल तंग किया करता है,
जैसे किसी जिस्म के अन्दर मैं इक ख़ंजर रख आया हूँ ।

साथ-साथ उड़ने के सपने तुमने मुझको जहाँ दिखाए,
नोंचे हुए पंख मैं अपने उसी जगह पर रख आया हूँ ।

उसकी माँगी किसी दुआ में मेरी चाहत भी शामिल हो,
यही सोच उसके सजदे में मैं अपना सर रख आया हूँ ।

जितना मैं भूलूँगा उसको उतना ही वो याद करेगा,
मैं उसके झोले में ऐसे जादू-मन्तर रख आया हूँ ।

जितने भी मरुथल रिश्तों के मुझको मिले रास्ते चलते,
सबके आगे बादल, दरिया और समन्दर रख आया हूँ ।