भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नायक को परिहास / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाइ महावर टीको लिलार दै ओठन काजर कै दृग पीकै।
आए जबै रसलीन लला तब देखत छाइ गए रिस ती कै।
ताहि समय ढिग भामिनी आइ जनाये सखी रसवाद हरी कै।
नैनन में मुस्काइ कह्यो इन बातन तें जनु लागत नीकै॥56॥