भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नायक को बिरह / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे तेरो गात नए पातिन रह्यो है रात,
तैसै मेरे गात पेम रात रंग पायो है।
जैसे तू पियन संमुख बैठत है आइ आइ,
तैसै मोंको मदन ही संमुखन छायो है।
जैसे तोहि गरे पर प्रफुल्लित पदतिय घात,
तैसै मोहि प्यारी पद मोद अति लायो है।
हौं तो एक बानि तौं या भेद मोंसो कीन्हों आनि
मो ससोक जानि तू असोक जग आयो है॥55॥