भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर उन्हें हम पुकार बैठे हैं / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


फिर उन्हें हम पुकार बैठे हैं
फिर कोई दाँव हार बैठे हैं

दिल कहाँ और कहाँ तेरी दुनिया!
शीशा पत्थर पे मार बैठे हैं

ज़िन्दगी कुछ तो भर दे प्याले में
हम भी पीने उधार बैठे हैं

होंगे मोती कहीं उन आँखों में
हंस जमुना के पार बैठे हैं

कुछ तो सुन्दर था रूप पहले से
और कुछ हम सँवार बैठे हैं

कैसे दिल चीरकर दिखायें गुलाब
प्यार पर पहरेदार बैठे हैं