भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरहना लाश सा बना है हर बसर जमाने में / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरहना लाश-सा बना है हर बसर जमाने में।
चली है बेहयाई बेहोशी की सरसर जमाने में।
 
नुमाइशे-जिस्म नुमाइशे-शोहरत में इजाफ़ा है,
तमद्दुन कदीम भटकती है दरबदर जमाने में।
 
जैसे तूफान में बह जाते हैं घर-मकाँ सदहा,
हू-ब-हू गर्द में मिल रही है सहर जमाने में।
 
नजरों की हवस-परस्तगी उरियानियाँ देखो,
देखती खतो-खाल मक्तल कमर जमाने में।
 
खूने-तमन्ना खूने-इंसाँ खूने-वफ़ा खूने-जिगर,
लहू-ए-कल्ब से लहूलुहान है डगर जमाने में।
 
हर चेहरे पर कई रंगों की रिदाएँ हैं मयस्सर,
कौन काबिले-एतबार जायें किधर जमाने में।
 
जज्बात की तिज़ारत हर-शू होती है 'कबीर' ,
ताजिरों की बस्ती बना घर शहर जमाने में।