भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादल / अलेक्सान्दर पूश्किन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अलेक्सान्दर पूश्किन  » संग्रह: धीरे-धीरे लुप्त हो गया दिवस-उजाला
»  बादल

वात-बवंडर बिखर चुका है, गगन हुआ निर्मल,
नीले नभ में दौड़ रहे अब एक तुम्हीं बादल,
हर्षमगन हो उजला-उजला दिन है मुस्काया,
उस पर केवल डाल रहे हो, तुम ही दुख-छाया।

कुछ पहले नभ ओर-छोर तक, तुम ही थे छाए
कड़क, कौंध बिजली की तेरी तुमको धमकाए,
थी रहस्य से भरी हुई तब तेरी घन-वानी
तप्त धरा की प्यास बुझाई, बरसाकर पानी।

बस काफ़ी है, अब तुम जाओ! वह क्षण बीत गया
धरती सरस हुई, झंझा का, अब बल रीत गया,
और पवन जो मन्द-मन्द, तरू, पत्ते सहलाए
शान्त गगन से तुझे उड़ा निश्चय ही ले जाए।


रचनाकाल : 1835