भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादि छवो रस व्यँजन खाइबो बादि नवो रस मिश्रित गाइबो / दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादि छवो रस व्यँजन खाइबो बादि नवो रस मिश्रित गाइबो ।
बादि जराय प्रजँक बिछाय प्रसून धने परि पाइ लुटाइबो ।
दासजू बादि जनेस गनेस धनेस फनेस रमेस कहाइबो ।
या जग मे सुखदायक एक मयँकमुखीन को अँक लगाइबो ।

दास का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।