भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मध्या धीरा बरनन / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात को बिताय ज्योंही प्रात आए रसलीन,
त्योंही बोली बाल सकुचात लखि प्यारे कों।
नैन सनमुख मिलि दिवसह दीजै सुख,
कोक सम टारि रैन बिरह हमारे कों।
तब आन कीन्हे घात नैन मेरे हैं पिरात,
कैसे करि हेरों तुव मुख के उज्यारे कों।
बाम कह्यो जाने हम इंदिरा हुतीं सो अब,
चंद्रमा भई हौं दृग कँवल तिहारे कों॥35॥