भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा महबूब मेरा हमदम चाँद के हूबहू है / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा महबूब मेरा हमदम चाँद के हू-ब-हू है।
ऐसा लगता है कोई परीवश मेरे रू-ब-रू है।
 
गो वह सिर्फ़ मेरा है कोई नक़दे-शमसो-क़मर,
वो तजल्ली-सा मिस्ले-सबा-सा कू-ब-कू है।
 
वो है खुसरवे-शीरीदहनाँ वह गुलो-गुलबदन,
जिस्मे-नाजनीं में गुले-गुलिस्ताँ की खुशबू है।
 
वो गुलबदन है चारागर दवा दुआ-ओ-मरहम,
वो मसीहा-ए-दिले-दिलजदहाँ-सा मू-ब-मू है।
 
वो ही मए वह ही है लग्जिशो-नहकते-मस्ताना,
वो ही है बादिया-ए-आबे-हयात जामो-सुबू है।
 
वो रानाई-ए-महताब है मीरे-कारवाँ-ए-इश्क,
वो मेरा हबीब है वह ही महरम वह ही अदू है।
 
निगाहे-मुंतजिर भी दीद-उमीद में है मुजतरिब,
दीद-ए-अक्से-रुखे-यार ख़्वाहिशो-जुस्तजू है।