भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे टूटे ख़्वाबों की अधूरी दास्ताँ हो तुम / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे टूटे ख़्वाबों की अधूरी दास्ताँ हो तुम।
तुम ही इब्तिशाम हो सोज़े-पिनहाँ हो तुम।
 
तुम दिल दरिया के बालीं पर शफ़क-सी हो,
दर्द की जम्हाती नींद शाम-ए-हिज़्राँ हो तुम।
 
तुम मेरा ख़्वाब मुन्तशिर, बेसुध तमन्ना हो,
अधूरे सफ़रे-इश्क़ का मीरे-क़ारवाँ हो तुम।
 
तुम मेरी बेरब्त ख़्बाहिशे-निगारे-हयात-हो,
जो मुकम्मल ना हो सका वह मुकाँ हो तुम।
 
तुम मेरा अनकहा एहसास अनकही चाहत,
मैं पा न सका वह ख़लूशे-ख़ाकदाँ हो तुम।