भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे ड्राइंग रूम में / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे ड्राइंग-रूम में
महीनों से
बिना नागा
आने वाली चिड़ियों को
मै
थोड़ा भी नहीं पहचानता
इतना भी नहीं
जितना
वे चिड़िया शायद
मुझे
पहचानती होंगी