भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह देखिए, यह देखिए / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह देखिए
हाथ पैर न चलाइए
कपड़े साफ़

यह देखिए
मिनटों में
पूरे घर की सफ़ाई

यह देखिए
यह बोलता है
यह सुनता है

यह देखिए
बस स्विच आन करिए
पूरा खाना तैयार
यह इलेक्ट्रानिक उपकरण
यह इम्पोर्टेड

यह सब
यह सब

बताते-बताते गुलाबी हुआ जाता
उनका चेहरा
बताते-बताते सफ़ेद हो जाता है

यह देखिए
मेरा जिगर, मेरा गुर्दा