भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यूँ पवन, रुत को रंगीं बनाये / राम प्रसाद शर्मा "महर्षि"

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूँ पवन, रुत को रंगीं बनाये
ऊदी-ऊदी घटा ले के आये

भीगा-भीगा-सा ये आज मौसम
गीत-ग़ज़लों की बरसात लाये

ख़ूब से क्यों न फिर ख़ूबतर हो
जब ग़ज़ल चाँदनी में नहाये

दिल में मिलने की बेताबियाँ हों
फ़ासला ये करिश्मा दिखाये

साज़े-दिल बज के कहता है ‘महरिष’
ज़िंदगी रक्स डूब जाए.