भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये तो अच्छा है आसमां भी नहीं / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये तो अच्छा है आसमां भी नहीं ।
वो परिन्दे तो अब जवां भी नहीं ।

वक़्त था जबकि बस्तियाँ थीं कई,
अब किसी याद का मकाँ भी नहीं ।

साथ दूँगा ज़ुबान जब से दी,
अपने मुँह में तो अब जुबां भी नहीं ।

हमने इतने बनाए ताज़महल,
अब तो हाथों में उँगलियाँ भी नहीं ।

वो दिए बुझ रहे हैं जाने क्यों,
सामने अब तो आँधियाँ भी नहीं ।

बाद अपने सुना के रोए कोई,
अपनी ऐसी तो दास्ताँ भी नहीं ।

तुम जुदाई के बाद फिर से मिलो,
वक़्त इतना तो मेहरबां भी नहीं ।