भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंग-राग / प्रताप सहगल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरियाली जब
यौवन का राग अलापती
हमारे दरवाज़े पर खड़ी हो
और उसकी आंखों से
झरता हो
स्वप्निल आकाश
आकाश से झांकती हो
आशीर्वचनी मुद्राएं
तो यह वक्त
फिर से जवान होने का है
फिर से जवान होकर
आओ बिखेरे कोई नया रंग
रंग में हो यौवन
रंग में हो राग
रंग में हो उमंग
आओ बिखेरे कोई नया रंग।