भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लक्खा-लक्खा / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लक्खा
को पूछिए उसकी उम्र
अपनी उम्र वह किलोमीटर में बताता है

लक्खा
जब होता है अपने घर
अपनी उम्र भूल जाता है

ट्रक से उतरते ही
पुकारता है ट्रक
लक्खा-लक्खा
पलटकर जाता है वह ट्रक के पास हर बार
बोनट को छूता है, हल्की-सी थपकी देता है