भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वीर प्रतिज्ञा / श्रीनाथ सिंह

No change in size, 11:01, 5 अप्रैल 2015
सौ आफतें हों सामने,
उजड़ा भले ही गेह हो।
हो देश की जय ,भय नहीं,
हमको जरा है क्लेश का।
बाजी लगा कर प्राण की,
हम साथ देंगे देश का।
</poem>