भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या बैठे हो / श्रीनाथ सिंह

1,155 bytes added, 11:10, 5 अप्रैल 2015
'{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKRachna
|रचनाकार=श्रीनाथ सिंह
|अनुवादक=
|संग्रह=
}}
{{KKCatBaalKavita}}
<poem>
तेज हवा के झोंको पर चढ़,
आ पहुंचे हैं बादल के दल।
पंख खोल उड़ती हैं बूंदें,
मची हूई है वन में हलचल।
सुख से पेड़ पहाड़ नहाते,
मोर नाचते मेंढक गाते।
भूल दुखों को आशा से भर,
खेत किसान जोतने जाते।
अन्धकार से कहता जुगनू,
राह नहीं हूँ मैं निज भूला।
जर्रे जर्रे में जीवन है,
कलियों ने है डाला झूला।
क्या बैठे हो घर में भाई,
चलो प्रकृति की छटा निहारें।
उगते खेत , उमड़ती नदियाँ,
घिरते घन की घटा निहारें।
</poem>