भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
सुन्न नगर, अनजान डगर,
अछि बहुत दूर मोर ठाम।
बीहड़ पथमे भटकि रहल छी,
दूर हमर अछि गाम !

चलइत-चलइत पएर टुटै अछि
चहकि चहल अछि अंग,
संगी हम छी असगर असगर
दूर भेल सभ संग।

भाँय-भाँय करइत अछि परिसर,
सन-सन बहय बसात,
हमरा असगर जानि एना ई
कए रहले उत्पात।

चन्ना मामा दुबकल सूतल
कम्बल-सन अन्हार,
राति डइनियाँ चला रहल
जनु सावर मन्त्रक जाल।

फन्नापर फन्ना अबैत अछि
ओझरा रहले पएर,
जोर-जोरसँ चिकरि
रहल छी, मुदा बनल सभ गैर।

देबै दोष किए ककरो हम
बिधिए हमरासँ वाम।
सुन्न नगर, अनजान डगर अछि, बहुत दूर मोर ठाम।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits