भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
ठोरक ई मुस्की छीनय ने दुनियाँ !
ठकलक ओना जर आ ठकलक जमीनो,
लेलक बहुत लेख, बनिकए क्यो भिक्षुक।
ठकिकए जमा ठाठ, बनिकए मठोमाठ,
बेधलक हमर मर्म रचिकए ओ टाटक।
जै कएलक से कएलक, आबहु जान छोड़ओ,
एखनहुँ पिबए रक्त क्ये बनि कए ओ ठेंगी ?
रचओ षड्यन्त्र किन्तु हमरा ने पूछओ,
गोहराबो ओ जाकए कोनो रीछपतिकें।
ठठाकए ओना हम मनहिमन हँसै छी,
लाड़्गरि हिलाबए कोनाकए ई कूकुर !
झगड़ा ने आबए, युद्धसँ नहि डरी हम,
बीनओ जाल जतबा बीनय ई दुनियाँ।
सहनसभ करब हम जतबा हो दंशन,
मुदा गीदरक नहि भबकी सहब हम।
चलाबओ समक्षक ओना बरू ओ खड्गे,
पोठ पाछू एना शस्त्र फेंकय ने दुनियाँ !
ठोरक ई मुस्की छीनय ने दुनियाँ !!
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits