भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKCatKavita}}
<poem>
'एक दिन चिरईं
जइसन उड़ जाऊँगी', उजबुजा जाती
यही कहती, फिर किसी ओर, अँगुरी से इशारा करते, धिराती
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
49,666
edits