भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
}}
[[Category:हाइकु]]
<poem>
16
नभगंगा की
माँग भरके खिला
दूल्हा -गगन ।
17
नीलम नभ
झील में डुबकियाँ
खूब नहाए।
18
नीलम -प्याला
सोमरस माँगता
रोज चाँद से ।
19
पाखी चहके
नभ हुआ मुखर
सन्ध्या-वन्दन ।
20
फैला गगन
चीलें मार झपट्टा
कबड्डी खेलें।
21
बाहें फैलाए
है व्याकुल अम्बर
मेघ न आए ।
22
भरें कुलाँचे
न थकें तनिक भी
मेघा-हिरना ।
23
मेघों के हाथी
चिंघाड़ें टकराएँ
अम्बर काँपे ।
24
व्योम अखाड़े
ढोल तिड़क-धुम्म
मेघों की कुश्ती ।
25
सबको देखे
छुप-छुप करके
लम्पट नभ ।
26
उड़ा ले गई
अधूरे रिश्ते- नाते
बहकी हवा ।
27
उमड़े आँसू
पोंछकर चल दी
सहेली हवा ।
28
कहती हवा
नहीं कोई पराया
बहते चलो।
29
चंचल हवा
मरोड़े टहनियाँ
छेड़ती गाछ ।
30
छूकर तन
दे गई थी पवन
उनकी पाती।
<poem>