भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKCatKavita}}
<poem>
'''अपूरित प्रार्थनाएं'''
 
भूखी नंगी प्रार्थनाएँ
अब बूढ़ी हो चली हैं,
ग़ुलामी और मुफ़लिसी के सिवाय
हमें दिया क्या है?
 
(सृजन संवाद, संपा. ब्रजेश, अंक ९, २००९ )
 
 
</poem>