भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो तुम्हें गर जुबान दे देगा / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो तुम्हें गर जुबांन दे देगा ।
ये भी तय है कि जान दे देगा ।

यूँ तो रहता है वो फ़कीराना,
पर वो दोनों जहान दे देगा ।

वो है ईसा सलीब चढ़ कर भी,
अपना हर इम्तिहान दे देगा ।

सिर्फ़ छूएगा तुमको हँस कर वो,
उम्र भर के निशान दे देगा ।

पंख ख़ुद ही जुटाएँगे पंछी,
वो तो बस आसमान दे देगा ।

उसके हाथों में ऐसा जादू है,
पत्थरों को उड़ान दे देगा ।

फ़ैसला हाथ में है नाज़िम के,
वो गवाह है बयान दे देगा ।