भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदस्य वार्ता:Himanshu

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिमांशु,

आपने वेरा, उन सपनों की कथा कहो! / आलोक श्रीवास्तव-२ नामक एक संग्रह कविता कोश में जोड़ना आरंभ किया है। इसे ठीक से जोड़ने से संबंधित कुछ बातें आपको बतानी हैं। कृपया मुझे बताये कि आपसे कैसे बात की जा सकती है। मैं GTalk, Yahoo Messenger, MSN/Live Messenger, Skype इत्यादि किसी का भी प्रयोग कर सकता हूँ।

शुभाकांक्षी

--सम्यक ०८:१८, १५ फरवरी २००९ (UTC)

आपकी रचनाएँ

हिमांशु,

आप अपनी तकरीबन कितनी रचनाएँ कोश में जोड़ेंगे? यदि आप १०० - २०० या इससे अधिक रचनाएँ जोड़ेंगे तो आपका तुकान्त और अतुकान्त रचनाओं के लिये अलग-अलग पन्ने बना ठीक है। अन्यथा आप अपनी सभी रचनाएँ अपने मुखपृष्ठ पर ही जोड़ें।

"/" के दोनों ओर कृपया एक-एक स्पेस दें... इससे रचना का शीर्षक पढ़ने में आसानी होती है।

शुभाकांक्षी

--सम्यक १२:३९, ५ मई २००९ (UTC)

मेरी रचनाओं से सम्बन्धित

आदरणीय, मैंने यह दो पन्ने दो प्रकार की कविताओं को अलग-अलग वर्गीकृत रूप में रखने के लिये बनाये हैं । इन दोनों प्रकार की रचनाओं की संवेदना पूर्णतया भिन्न होना भी इनके वर्गीकरण का कारण है । एक साथ मैं सैकड़ो कवितायें तो न जोड़ सकूँगा, पर फिर भी दोनो श्रेणियों मे संतोषजनक संख्या तो इन कविताओं की है है ।

कविता कोश में अपने योगदान के प्रति सजग हूँ । अन्य कविओं की रचनायें भी क्रमशः जोड़ने का प्रयास करता रहूँगा । जिस प्रकार का इंगित कविता कोश प्रदान करे उसी लीक पर चलने की मंशा के साथ मैं नवीन निर्देशों के लिये प्रतीक्षित हूँ । साभार ।

हिमांशु पाण्डेय






हिमांशु,

कविता कोश एक बहुत विशाल खजाना है। इसमें कविता जितनी नीचे दबी होगी -पाठक का उस तक पँहुचना उतना ही मुश्किल होगा। आप चाहें तो तुकांत और अतुकांत कविताओं के लिये अलग-अलग पन्नें बना सकते हैं -लेकिन ऐसा करने से पाठक को आपकी किसी भी रचना तक पँहुचने के लिये एक क्लिक अधिक करना होगा। यदि आप इन दोनो तरह की रचनाओं को अलग-अलग दिखाना चाहते हैं तो शायद बेहतर तरीका ये हो कि आप अपने मुखपृष्ठ पर ही दो विभाग बना लें। जैसे कि:

तुकान्त रचनाएँ

तुकान्त कविता १
तुकान्त कविता २
तुकान्त कविता ३
तुकान्त कविता ४

अतुकान्त रचनाएँ

अतुकान्त कविता १
अतुकान्त कविता २
अतुकान्त कविता ३
अतुकान्त कविता ४

ऐसा करने से आपकी तमाम रचनाओं के लिंक्स भी एक ही पन्ने पर रहेंगे और विभाजन भी हो जाएगा। बाद में यदि आपकी रचनाओं की यह सूची १०० - २०० की संख्या को पार कर जाये तब शायद दो अलग-अलग पन्ने बनाना बेहतर हो क्योंकि तब आपके किसी भी रचना को खोजने के लिये पाठक को आपका पन्ना काफ़ी नीचे तक स्क्रोल करना पड़ा करेगा और लम्बी सूची के कारणा पन्ने को लोड होने में भी १-२ सेकेंड शायद ज़्यादा लगेगा।

यह सब सुझाव हैं। कविता कोश में मैं भी आप ही की तरह एक योगदानकर्ता हूँ... आपको इनमें से जो तरीका उचित लगे -उसी को अपनायें।

शुभाकांक्षी

--सम्यक १३:२९, ५ मई २००९ (UTC)

आपकी विधिनुसार

आदरणीय, अपेक्षित संशोधन कर दिया है । छन्दबद्ध और छन्दमुक्त कविताओं को एक ही पृष्ठ पर जोड़ने का काम शुरु कर दिया है । तकनीकी जानकारी से न्यून हूँ, अतः समय समय पर निर्देशन लेता रहूँगा । सधन्यवाद । हिमांशु

नाम जोड़ने के सम्बंध में

आदरणीय, अनूदित रचनाओं के खण्ड में मलयालम भाषा की बहुप्रतिष्ठित कृति ’ ओट्क्कुष़ल’ (Otakkuzhal) जोड़ने का इच्छुक हूँ । वहाँ देखा तो इस कृति के रचनाकार जी० शंकर कुरुप का नाम ही नहीं है । तो मैं किस प्रकार इस कृति को जोड़ सकूँगा । अतः इसी कृति के लिये प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता श्री जी० शंकर कुरुप का नाम जोड़ने की कृपा करें |

मैं भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा प्रकाशित इस कृति का अनुवाद यहां टंकित करुंगा | साभार ।

कविता कोश में वार्तालाप

नमस्कार,


कविता कोश में सदस्यों के बीच वार्तालाप को सुचारु बनाने के उद्देशय से मैनें एक लेख लिखा है। कृपया इसे पढ़ें और इसके अनुसार कोश में उपलबध वार्तालाप सुविधाओं का प्रयोग करें। हो सकता है कि आप इन सुविधाओं का प्रयोग पहले से करते रहें हों -फिर भी आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिये ताकि यदि आपको किसी सुविधा के बारे में पता नहं है या आप इन सुविधाओं का प्रयोग करने में कोई त्रुटि कर रहे हैं तो आपको उचित जानकारी मिल सके।


यह लेख सदस्य वार्ता और चौपाल का प्रयोग नाम से उपलब्ध है।


शुभाकांक्षी

एक रचना एक से अधिक संग्रहों में...

नमस्कार,


पिछले दिनों अमिताभ जी, श्रद्धा और धर्मेन्द्र कुमार को कविता कोश में रचनाएँ जोड़ते समय एक समस्या का सामना करना पड़ा था। यदि एक ही रचना किसी कवि के एक से अधिक संग्रहों में प्रकाशित हुई हो तो क्या उस रचना को हर संग्रह के लिये अलग-अलग टाइप करना चाहिये? इसका जवाब है "नहीं"...


आज मैनें KKRachna टैम्प्लेट के कोड में कुछ बदलाव किये हैं। इससे अब आप किसी भी रचना को एक से अधिक संग्रहों का हिस्सा बता सकते हैं। इसके लिये आपको संग्रहों के नामों को सेमी-कोलन (;) से अलग करना होगा। उदाहरण के लिये:


{{KKRachna
|रचनाकार=सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
|संग्रह=परिमल / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला";अनामिका / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
}}


इस उदाहरण में रचना को 2 संग्रहों (परिमल / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला" और अनामिका / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला") का हिस्सा बताया गया है। ध्यान दीजिये कि दोनों संग्रहों के नाम सेमी-कोलन (;) से अलग किये गये हैं। इस तरह ज़रूरत पड़ने पर आप किसी रचना को कितने भी संग्रहों का हिस्सा बता सकते हैं।


इस सुविधा का प्रयोग होते हुए आप यहाँ देख सकते हैं: मित्र के प्रति / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"


आशा है आपको यह सुविधा उपयोगी लगेगी।


सादर


--सम्यक २१:३५, १९ अक्टूबर २००९ (UTC)

कविता कोश में चित्र अपलोड करना

हिमांशु,


कोश में चित्र अपलोड करने के अधिकार को अब केवल कुछ नियमित योगदानकर्ताओं तक सीमित कर दिया गया है। बहुत से लोग फ़ालतू और मन-माफ़िक चित्र अपलोड कर सर्वर पर भार बढ़ा देते थे। इसीलिये ऐसा किया गया है। आप जिस चित्र की बात कर रहे हैं उसे आप ईमेल से kavitakosh@gmail.com पर भेज दें। उसे अपलोड कर दिया जाएगा।


कविता कोश आपके सहयोग और योगदान के लिये कृतार्थ रहेगा।


--सम्यक १०:१७, १४ दिसम्बर २००९ (UTC)

क्या आपसे अभी gtalk इत्यादि पर बात हो सकती है?

क्या आपसे अभी gtalk इत्यादि पर बात हो सकती है? आप योगदान में कुछ ग़लतियाँ कर रहे हैं उसी के बारे में आपसे बात करना चाहता हूँ।

सादर

--सम्यक 05:16, 16 जनवरी 2010 (UTC)

request

Kindly visit http:// yogdankarta.blogspot.com and. Give blessings also-