भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदस्य वार्ता और चौपाल का प्रयोग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह देख कर अच्छा लगता है कि कविता कोश के योगदानकर्ता चौपाल और सदस्य वार्ता का उपयोग एक दूसरे से वार्तालाप करने के लिये कर रहे हैं। ऐसा और भी अच्छे तरीके से हो सके -इसीके लिये मैं यहाँ कुछ बातें लिख रहा हूँ:


सदस्य वार्ता

कविता कोश में हर योगदानकर्ता का एक सदस्य पन्ना होता है और एक सदस्य वार्ता पन्ना होता है। उदाहरण के लिये मेरा सदस्य नाम सम्यक है सो मेरा सदस्य पन्ना है सदस्य:सम्यक और मेरा सदस्य वार्ता पन्ना है सदस्य_वार्ता:सम्यक। जब आप हाल में हुए बदलाव नामक लिंक पर जाते हैं तो आपको कविता कोश में हाल में हुए बदलावों की एक सूची दिखाई देती है। जैसे कि:

(अन्तर) (इतिहास) . . साँचा:KKGlobal‎; २१:२६ . . (+२३) . . सम्यक (वार्ता | योगदान | अवरोधित करें)

ऊपर दिये गये उदाहरण बताता है कि साँचा:KKGlobal‎ नामक पन्ने में सम्यक नामक सदस्य ने बदलाव किया। सम्यक के बराबर में दांयी तरफ़ सम्यक के वार्ता पन्ने का लिंक आपको मिल जाएगा। इस लिंक पर क्लिक करने से आप सम्यक के वार्ता पन्ने पर पँहुच जाएंगे और वहाँ सम्यक के लिये अपना संदेश लिख सकेंगे।

कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • जैसे ही आप किसी भी सदस्य के वार्ता पन्ने पर कोई भी संदेश लिखते हैं और उस संदेश को "Save" करते हैं -उसी समय एक ईमेल उस सदस्य को मिल जाता है कि आपके वार्ता पन्ने पर नया संदेश आया है उसे पढ़ लीजिये। इसलिये कृपया किसी भी सदस्य के वार्ता पन्ने पर अपना संदेश लिख कर "Save" करने से पहले जाँच लें कि आपने वही लिखा है जो आप लिखना चाहते हैं। अगर आप संदेश लिख कर बाद में उसमें जितने भी बदलाव करेंगे -उनमें से हर बदलाव के लिये उस सदस्य को एक ईमेल मिलेगा... और यह फ़ालतू ईमेल्स उस सदस्य के लिये असुविधाजनक हो सकते हैं
  • जिस सदस्य के वार्ता पन्ने पर आप संदेश लिख रहें हैं -हो सकता है कि उसके वार्ता पन्ने पर पहले से ही कुछ संदेश लिखें हों। आपको पहले से लिखे संदेशों के साथ छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिये। अपना संदेश पन्ने के आखिर में एक अलग सैक्शन बना कर लिखें ताकि आपका संदेश बाकि संदेशों से अलग दिखे। यदि आप ऐसा नहीं करेंगे तो आपका संदेश बाकि के संदेशों के साथ मिक्स हो जाएगा और उसे पढ़ने में परेशानी हो सकती है। नया सैक्शन बनाने के लिये लिखें: == संदेश की सब्जैक्ट लाइन ==
  • यदि किसी ने आपके वार्ता पन्ने पर कोई संदेश लिखा है और आप उसक जवाब लिखना चाहते हैं -तो अपना जवाब अपने स्वयं के वार्ता पन्ने पर लिखने कि बजाये आपको उस दूसरे व्यक्ति के वार्ता पन्ने पर लिखना चाहिये जिसने आपको संदेश लिखा था।
  • किसी के वार्ता पन्ने पर लिखा गया आपका संदेश दूसरे योगदानकर्ताओं द्वारा पढ़ा जा सकता है। इसलिये यदि आप किसी सदस्य को कोई गोपनीय संदेश देना चाहते हैं तो आपको ईमेल का सहारा लेना चाहिये। लेकिन ऐसा आपको केवल उन संदेशों के लिये करना चाहिये जो वाकई में गोपनीय हैं। कविता कोश से संबंधित वार्तालाप के लिये सदस्यों के वार्ता पन्नों का प्रयोग करना सर्वोत्तम है।
  • कोई भी सदस्य किसी भी अन्य सदस्य के वार्ता पन्नें पर संदेश लिख सकता है। इसके लिये आपको किसी अधिकार या अनुमति की आवश्यकता नहीं है।
  • यदि आप कोश से संबंधित किसी विषय में एक से अधिक सदस्यों के साथ चर्चा आरम्भ करना चाहते हैं तो आपको चौपाल का प्रयोग करना चाहिये।


चौपाल

इसका प्रयोग तब किया जा सकता है जब आपको बाकि सभी लोगों तक अपनी बात पँहुचानी हो। चौपाल का लिंक बायें हाथ पर बनी तालिका में दिया गया है। यदि आप कोई नया विषय आरम्भ करना चाहते हैं तो "== ==" का प्रयोग करके एक नया सैक्शन बना कर अपनी बात लिखें। यदि आप पहले से की जा रही किसी चर्चा में अपनी बात लिखना चाहते हैं तो उस चर्चा के सैक्शन में अपनी बात लिखें।

हस्ताक्षर

चौपाल में या किसी सदस्य के वार्ता पन्ने पर जब आप कोई संदेश लिखें तो संदेश के अंत में अपने हस्ताक्षर अवश्य करें। इससे संदेश पढ़ने वालों को यह पता चल सकेगा कि संदेश किस सदस्य ने और कब लिखा। हस्ताक्षर करने के लिये आपको केवल हर "Edit" पन्ने की टूलबार (जहाँ बोल्ड और इटालिक करने के बटन दिये गये हैं) में दिये गये हस्ताक्षर बटन Signature Button.png का प्रयोग करना है। इस बटन को दबाने से आपके संदेश में "--~~~~" छप जाएगा। बस यही आपके हस्ताक्षर हैं। जब आप अपने संदेश को "Save" करेंगे तो सिस्टम अपने आप "--~~~~" की जगह आपका नाम और संदेश लिखे जाने का समय अंकित कर देगा। आपको स्वयं अपना सदस्य नाम और समय टाइप करने की आवश्यकता नहीं है।


सदस्य पन्ने का लिंक बनाना

कविता कोश में लिंक बनाना बहुत आसान है -आपको केवल [[ ]] का प्रयोग करना होता है। लेकिन यह ध्यान रखिये कि [[ ]] के बीच आप जो लिखते हैं -बिल्कुल ठीक उसी नाम का कोई पन्ना पन्ना कोश में होना आवश्यक है -तभी उस पन्ने का लिंक बन पाएगा। यदि आपने वर्तनी गलत लिख दी तो लिंक बन तो जाएगा लेकिन वह आपको एक खाली पन्ने की ओर ले जाएगा (खाली पन्ने की ओर ले जाने वाले लिंक कविता कोश में लाल रंग के दिखाई देते हैं)। उदाहरण के लिये यदि मैं अपने सदस्य पन्ने का लिंक बनाना चाहता हूँ तो मुझे [[सम्यक]] ही लिखना होगा क्योंकि सम्यक ही मेरा सदस्य नाम है। यदि लिंक बनाते समय मैनें इसे [[श्री सम्यक]] या [[सम्यक जी]] या [[Samyak]] या और कुछ भी लिखा तो लिंक लाल रंग का बनेगा और मेरे पन्ने की ओर नहीं ले कर जाएगा।


आशा है यह लेख आपके लिये उपयोगी सिद्ध होगा।

--सम्यक १५:५५, २६ सितम्बर २००९ (UTC)