भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सलवटों वाला चेहरा / वाज़दा ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सलवटों से भरा एक चेहरा
संभाल के रखा है
संदूकची में
जिसे गाहे-बगाहे पहन लेता हूं.
एक चेहरा और है मेरे पास
उसमें भी लकीरें हैं
मगर वो स्वाभाविक है,
दरअसल
यही मेरा असली चेहरा है.
सलवटों को तो
मैं कभी-कभी ओढ़ लेता हूं
वक्त की जरूरतों के
हिसाब से.