भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साल की आख़िरी रात / वेणु गोपाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक छलांग

लगाई है
उजाले ने

अंधेरे के पार

पाँव
हवा में--

और

मैं
अपनी डायरी पर
झुका हुआ

उसके

धरती छूने का
इन्तज़ार
करता

००

रात के बारह बजने में

अभी

काफ़ी देर है।

(रचनाकाल : 31.12.1971)