भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिलसिला / वाज़दा ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहतों में डूब जाने बह जाने का
सिलसिला नदी ने शुरू किया था
तभी न पहाड़ से उतरती
दूर तक सफर करती
पहुँचती है समंदर तक
समंदर सुरूर में है
थोड़ा गुरूर में भी
पता है उसे नदी को
उस तक आना है।