भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरत तो वही है जरा सीरत बदली सी है / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरत तो वही है ज़रा सीरत बदली-सी है।
मौसम का असर देखो तबीयत बदली-सी है।
 
जिन्से-वफ़ा नहीं अब दिखती खुश्क-रू पर,
मेरे रफ़ीकों की शायद नीयत बदली-सी है।
 
कोई दिले-मरहूम फ़सुर्दा कोई जख़्मखुर्दा,
आदमी हैं वही पर आदमियत बदली-सी है।
 
मेरे गुलिस्ताँ से आजकल है बू-ए-ग़ुल आती,
शाख़ निहाल बाग की रंगत बदली-सी है।
 
बर्गे-नबात पर हैं क्यूँ सहाबे-नसीमे-बहार,
मौसम बदला है या फ़ितरत बदली-सी है।
 
एस्तादा रहना मुश्किल है हुजूमे-सरसर में,
विसाले-बहर है लेकिन हिम्मत बदली-सी है।
 
घर बसर मकाँ मुकाँ सब कुछ बदल गया,
इंसाँ बदला या पूरी ख़िलकत बदली-सी है।