भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वेटर के बीन-बीन / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साजन के याद संग स्वेटर के बीन-बीन

हृदय में टीस उठल, दर्द उठल पोर-पोर
दूर पति याद करी, भरी-भीरी आँख लोर
ध्यान पति पास नजर अंगुली पर गीन-गीन
साजन के याद संग स्वेटर के बीन-बीन

कोइलिया लूकी-छीपी कूकी रहल डाली पर
बैठल पपिहरा पुकारी रहल पीव-पीव
वहिना बेचैन हिया जेना तरपैत मीन
साजन के याद संग स्वेटर के बीन-बीन

पूस तपल जेठ बनल तपते बसन्त रहल
आँखी से दूर खाली यादों में कंत रहल
भागी रहल दिन बचल शेष सुख छीन-छीन
साजन के याद संग स्वेटर के बीन-बीन