भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर हिटलर / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर पालत हर सृजत हैं, हर कर्त्ता संहार।
या कलियुग के बीच में, हर हिटलर अवतार॥
हर हिटलर अवतार, युगन ऐसी चल आई।
जब अवनी पै बढ़ें पाप प्रगटे तहाँ जाई॥
जलचर थलचर यान सो करत अनौखी मार है।
जो जीते या समर को तौ निश्चय अवतार है॥