भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होली का आया त्यौहार / रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्राची गुझिया बना रही है,
दादी पूड़ी बेल रही है ।
कभी-कभी पिचकारी लेकर,
रंगों से वह खेल रही है ।।
 
तलने की आशा में आतुर
गुझियों की है लगी कतार ।
घर-घर में खुशियाँ उतरी हैं,
होली का आया त्यौहार ।।
  
मम्मी जी दे दो खाने को,
गुझिया-मठरी का उपहार ।
सजता प्राची के नयनों में,
मिष्ठानों का मधु-संसार ।।
  
सजे-धजे हैं बहुत शान से
मीठे-मीठे शक्करपारे ।
कोई पीला, कोई गुलाबी,
आँखों को ये लगते प्यारे ।।
  
होली का अवकाश पड़ गया,
दही-बड़े कल बन जाएँगे ।
चटकारे ले-लेकर इनको,
बड़े मज़े से हम खायेंगे ।।