भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका भाषा / अंजनी कुमार सुमन

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:37, 11 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंजनी कुमार सुमन |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंगिका के उच्चो माथा
बहुत पुराना छै ई भाषा।

ऐकरे में तेॅ कथा-कहानी
लीखै छै अमरेन्दर चाचा
अंगिका के उच्चो माथा
बहुत पुराना छै ई भाषा।

सुमन चचा भी बोलै मीठा
लीखै छै ऊ बाल कवीता
राही मौसा हँसी लगाबै
भीड़ जुटाबै अच्छा खासा
अंगिका के उच्चो माथा
बहुत पुराना छै ई भाषा।

छोटा कुरता बड़ा पजामा
गीत लिखै छै परलय मामा
और विजेता फुफ्फा गाबै
रामायण के सच्चा गाथा
अंगिका के उच्चो माथा
बहुत पुराना छै ई भाषा।