भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आहा, कैसा आया जाड़ा / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:23, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गया नवंबर, शुरू दिसंबर,
उछल-कूदता भागा चंदर
लेकर आया स्वेटर दो-दो,
गरम कोट भी लाएगा वो।
ओढ़ेगा वह गरम रजाई,
नई रुई उसमें भरवाई।

जाड़े की जब होगी किल-किल,
खूब हँसेगा चंदर खिल-खिल।
और पढ़ेगा यही पहाड़ा-
आहा, कैस आया जाड़ा!