भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन दिनों / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:42, 26 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मोहिनी सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन दिनों
मै धरती हूँऔर तुम किसान
जोत रहे हो मुझे
उलट पलट दी हैं तुमने
सारी कठोर परतें
मिट्टी का हर दाना
अलग-अलग, खिला खिला
जैसे मेरी भींगी, चिपकी पलकें
हो गईं हैं अब अलग अलग, खिली खिली
तुम खुद हवा बन बहते हो मेरे ऊपर।
हर ओट उघड़ रही है।
ये जो क्यारियाँ बनाई हैं मुझपे
क्या बोना है इनमें?
बीज उम्मीद, भ्रम या प्रेम के?
जो भी बोओगे
सिंचेंगे उसे
मेरी आंखो में बसे सपनों के बादल
क्योंकी मुझे पता है
तुम लौटोगे
कटाई के समय।